Monday, March 9, 2015

नियति..



दुखों के नाम नहीं होते
पर होते हैं कई सारे
कुछ सहे जाते हैं..कुछ नहीं..

कुछ अप्रत्याशित...कुछ अपेक्षित
कुछ का आना तय है
कुछ दुख नियति होते हैं

ये नियत दुख 
ह्रदय में जीते हैं
जीवन भर..
जिनकी भरपाई
कर ही नहीं सकता
कोई भी सुख..

                                                                         ... Missing you Bauji !