Monday, March 9, 2015

नियति..



दुखों के नाम नहीं होते
पर होते हैं कई सारे
कुछ सहे जाते हैं..कुछ नहीं..

कुछ अप्रत्याशित...कुछ अपेक्षित
कुछ का आना तय है
कुछ दुख नियति होते हैं

ये नियत दुख 
ह्रदय में जीते हैं
जीवन भर..
जिनकी भरपाई
कर ही नहीं सकता
कोई भी सुख..

                                                                         ... Missing you Bauji !
                                                                     




5 comments:

  1. दुखों के नाम नहीं होते
    पर होते हैं कई सारे
    कुछ सहे जाते हैं..कुछ नहीं..
    बहुत सुन्दर सराहनीय अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. कभी कभी हम सोचते हैं कि वो हमे छोड़ गए... मगर क्या ये सच हैं... शायद नहीं.. क्यूंकि वो तो हमेशा से यही पर हैं... हमारे दिलो में... तो गम तू भुला... और नए पल को जिले जरा... क्यूंकि तेरी ख़ुशी में जियेगा वो जो तुझे छोड़ गया...

    ReplyDelete
  3. सुन्दर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  4. कई दुखों की यादें नहीं जाती ...
    भावपूर्ण पंक्तियाँ ...

    ReplyDelete
  5. बड़ी खूबसूरती से शब्द दिए...सुन्दर भाव..बधाई.

    ReplyDelete

आपके कमेंट्स बेहद अनमोल हैं मेरे लिए...मेरा हौसला बढ़ाते हैं...मुझे प्रेरणा देते हैं..मुझे जोड़े रखते आप लोगों से...तो कमेंट ज़रूर कीजिए।