Thursday, May 8, 2014

तुम..


ग़लत हो जाती हूं अकसर, 
और ग़लत होना बुरा भी तो नहीं
क्योकिं तब.. 
सही होते हो तुम !

कभी-कभी ग़लत होकर 
सच्चाई दिखती है तुम्हारी आंखों में
और तब ग़लतियां मानकर अपनी
खुश भी हो जाती हूं 
क्योंकि तब..
सही होते हो तुम!

हार-जीत के मायने ख़त्म हो जाते हैं 
जब हारकर भी खुशी मिलने लगे
कभी-कभी हारना भी अच्छा लगता है 
अगर हराने वाले होते हो तुम !

हां..हार ही तो गई हूं खुद को
और जीत लिया है तुमने मुझको
और ये हारना बुरा भी तो नहीं
क्योंकि तब..
जीत जाते हो तुम !

                                                                                               love you !!

22 comments:

  1. "तुम " से हारना ही तो सबसे बड़ी जीत भी है और ख़ुशी भी !
    New post ऐ जिंदगी !

    ReplyDelete
  2. Prem mein harna aabse badi jeet hai ... Halanki mukabala barabar par hi chootta hai ... Kuch haro kuch jeeto ... Prem ki khushboo liye ...

    ReplyDelete
  3. wah wah kya baat he parul...tumne to har swikar kar sab ka dil jeet liya

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण रचना. केवल समर्पण का खेल है प्रेम.

    ReplyDelete
  5. Amazing Di' ... Pyar me harna is like jeetna...

    ReplyDelete
  6. आपकी इस उत्कृष्ट अभिव्यक्ति की चर्चा कल रविवार (11-05-2014) को ''ये प्यार सा रिश्ता'' (चर्चा मंच 1609) पर भी होगी
    --
    आप ज़रूर इस ब्लॉग पे नज़र डालें
    सादर

    ReplyDelete
  7. सुंदर! समर्पण ही सच कुछ :)

    ReplyDelete
  8. निशब्द... :) just want to say hats of to you mam.....

    ReplyDelete
  9. समर्पण के अनन्य भाव से सिक्त मन को छूती एक बहुत ही सुंदर रचना ! यह हार आपको मुबारक हो ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  10. इस हार मे बस जीत है........ बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  12. अपने प्रिय की जीत में हमारी हार भी अच्छी लगती है।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete
  14. यह हार भी जीत ही तो है समर्पण की सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  15. बेहद सरल और रसपूर्ण।
    बधाई।

    ReplyDelete
  16. क्यूंकि तब.………
    सही होते हो तुम।
    यह मानना बहुत बड़ा समर्पण है, प्रेम ईसी एहसास क तो नाम है।

    ReplyDelete
  17. बहुत प्यारी हो तुम
    परी की रचना जो हो तुम

    ReplyDelete
  18. सुंदर अभिव्यक्ति है , मंगलकामनाएं !!

    ReplyDelete
  19. क्या बात है। बेहद खूबसूरत भावनाए
    बधाई।

    ReplyDelete
  20. सूंदर लिखा हैं आनंद अनुभूति

    ReplyDelete

आपके कमेंट्स बेहद अनमोल हैं मेरे लिए...मेरा हौसला बढ़ाते हैं...मुझे प्रेरणा देते हैं..मुझे जोड़े रखते आप लोगों से...तो कमेंट ज़रूर कीजिए।