Tuesday, February 4, 2014

शुभरंग बसंती..

This is the 100th post of my blog. Obviously very special to me and 
I am dedicating it to the love of my life...Sunil !


पहले ये रंग इतना खूबसूरत न था 
पर जीवन के कितने सच समाए हैं इस रंग में
जिन रंगों से मेरे जीवन में खुशियां हैं
उनमें सबसे गहरा है ये रंग
ये रंग मेरे जीवन में आया
उसे नया करने
शुभ लगन लिखकर एक शुभ दिन लाया
मेरे अपनों ने मुझपर ये रंग चढ़ाया 
अपना आंगन छोड़ने की तब इच्छा न थी
पर बाबुल ने मेरे हाथ इस रंग में रंगकर 
उनके हाथों में दे दिये 
और शुभारंभ हुआ एक नये जीवन का 
आज ही का तो दिन था वो
बसंतपंचमी..
और ये बसंती रंग ले आया 
मेरे जीवन में भी बसंत
खुशियों का ये रंग 
करता हर पल बसंती
नव, नवीन ये पावन रंग 
जीवन करता ये पावन बसंती 
अब छूटे न
पिया का आंगन बसंती
जिसमें रम गया ये जीवन बसंती
रंग गई मैं भी बसंती
रंग गये पिया बसंती
कितना खूबसूरत है न ये 
शुभ रंग.. 
बसंती..

                          photo courtesy:~Chintu Pathak photography, google images


21 comments:

  1. बहुत बहुत बधाई और शुभ कामनाएं ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद रंजना जी

      Delete
  2. bhagwan kare yeh rang aapki zindagi mein aise hi khushiyaan bikherein!!!

    ReplyDelete
  3. भावपूर्ण सुन्दर.....

    ReplyDelete
  4. कान पकड़ कर कमेंट लिख रही हूँ गुड़िया परी ......माफी नहीं मांगूँगी ..... सजा तुम दे नहीं सकती ..... वैसे आशीर्वाद तो दिल से रोज ही देती हूँ ..... कल भी देना चाहिए था ..... दी भी थी .....शायद तुम सुनी हो
    अखंड सौभाग्यवती रहना

    ReplyDelete
    Replies
    1. विभा दी..वो तो हमेशा ही रहता है पास.. सादर

      Delete
  5. 100 वीं पोस्ट और आने वाले ऐसे अनगिनत पलो के लिए हार्दिक शुभ कामनाएँ

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर....
    १०० वीं पोस्ट के लिए बहुत बहुत बधाई....
    ढ़ेर सारी शुभकामनाएँ ....
    http://mauryareena.blogspot.in/
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. thankyou reena ji for the lovely wishes

      Delete
  7. खुशियों के ये रंग तुम पर बरसते रहे .......
    ढेरों शुभकामनायें ....

    हजारवीं पोस्ट का इंतज़ार रहेगा :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanks mukesh da.. for your blessings..

      Delete
  8. 100 vi post ki badhai aur vivhah ki varshgaanth ki bhi dheron badhaiyan :)))

    ReplyDelete
  9. बसंत का ये रंग आप पर हमेशा कायम रहे ....
    और 100 वी पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाई,शुभकामनाये,..
    इसी तरह आप सफलताओं के शिखर पार करती रहें सदा यही दुआ है हमारी....आपका लेखन हमेशा फलता-फूलता रहे...!!


    शुभकामनाओ के साथ
    - संजय भास्कर

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर .
    शुभकामनाएँ !!
    नई पोस्ट : प्रकृति से मानव तक

    ReplyDelete
  11. Hey that was really beautiful. A bit late, still many happy returns of the day. :)

    That said, I have a question: With the lines "Par Babul Ne Mere haath is rang mein rang kar unke haathon mein de diye", don't you think you are trying to re establish the fact that women have to be "given" to someone.

    I mean the whole feminist movement stands on the concept of equality. No matter how much loved a woman is by someone, nobody has the right to "give her hand in someone else's". While I completely understand that you might have been giving words to your personal beautiful moments in the above lines, still I believe that, with the massive fan following you have, writers like you should be at the forefront of equality and against the age old patriarchal society of ours. :)

    PS: My personal opinion, you are free to have your own views. Its a free world afterall.

    ReplyDelete

आपके कमेंट्स बेहद अनमोल हैं मेरे लिए...मेरा हौसला बढ़ाते हैं...मुझे प्रेरणा देते हैं..मुझे जोड़े रखते आप लोगों से...तो कमेंट ज़रूर कीजिए।