Monday, February 24, 2014

वो अधूरी हसरतें..


छोटी सी ज़िन्दगी की 
छोटी-छोटी हसरतें
मचलती हैं हर दिल के किसी कोने में
हर दिल चाहता है हो जायें पूरी
पर ज़िन्दगी पे भारी हैं
ज़िम्मेदारियों के कम न होते बोझ
उतारते-उतारते जिन्हें 
जीवन जाता बीत
और वो हसरतें
रह जाती दबी..कुचली
सहमी सी
पूरी होने का ख़्बाब लिए
हो जातीं एक दिन मौन..
शून्य सी... 
निरर्थक सी..
आह !
वो अधूरी हसरतें..


20 comments:

  1. कितना कुछ कह गयीं ये अधूरी हसरतें.. खूबसूरत एहसास.. :-)

    ReplyDelete
  2. शून्य सी
    निरर्थक सी .....
    आह !
    वो अधूरी हसरतें .....
    बोलो ना परी ...... मैं तो ना ढूंढ सकी ..... हल तुम ढूंढो ना ....
    हम बताएं जहां को .....

    ReplyDelete
  3. ये श्रृंखला अंतहीन है पूरी होती हसरतों और नये जन्म लेते हसरतों के....... सुन्दर .....

    ReplyDelete
  4. दिल में टीस जगाती भावपूर्ण रचना ! शायद यही सबका सच है ! बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  5. अधूरी हसरतों की सुंदर दास्ताँ.

    ReplyDelete
  6. अधूरी हसरतों की कसक ता-उम्र रहती है. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  7. अधूरी हसरतों कि टीस कहीं न कहीं कचोटती रहती है मन को..एक सच्चाई ....भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  8. hasrten kab puri huyee hai fir bhi ek asha to hoti hai hai .....bahut badhiya

    ReplyDelete
  9. प्रभावी अंदाज़ है आपकी लेखनी में

    ReplyDelete
  10. अधूरोप हसरतें जीने को प्रेरित भी करती हैं ... उन्हें पूरा करने की चाह पैदा करती हैं ...
    भावपूर्ण रचना है ...

    ReplyDelete
  11. आपकी इस प्रस्तुति को आज की बुलेटिन सर डॉन ब्रैडमैन और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  12. भावपूर्ण रचना ...

    http://rajkumarchuhan.blogspot.in/

    ReplyDelete
  13. Kam lafzon mein itna achha likha wo bhi wazandaar..man ki gehraiyon ko achha tatola..! Likhte rahiye!

    ReplyDelete
  14. आपकी इस उत्कृष्ट अभिव्यक्ति की चर्चा कल रविवार (27-04-2014) को ''मन से उभरे जज़्बात (चर्चा मंच-1595)'' पर भी होगी
    --
    आप ज़रूर इस ब्लॉग पे नज़र डालें
    सादर

    ReplyDelete
  15. आपकी इस उत्कृष्ट अभिव्यक्ति की चर्चा कल रविवार (01-06-2014) को ''प्रखर और मुखर अभिव्यक्ति'' (चर्चा मंच 1630) पर भी होगी
    --
    आप ज़रूर इस ब्लॉग पे नज़र डालें
    सादर

    ReplyDelete
  16. जिम्मेवारियों को पूरा करने में जाने कितनी ही
    हसरतें अधूरी रह जाती हैं
    सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  17. कइयों की रह जात हैं अधूरी हसरतें।

    ReplyDelete

आपके कमेंट्स बेहद अनमोल हैं मेरे लिए...मेरा हौसला बढ़ाते हैं...मुझे प्रेरणा देते हैं..मुझे जोड़े रखते आप लोगों से...तो कमेंट ज़रूर कीजिए।