Thursday, January 30, 2014

मैं हूं न तेरे संग..


जाने क्या बात है..
क्यों परेशां हो 
जब साथ है
क्यों लगा कि मुशकिलें 
मिलेंगी राह में
मैं हूं न तेरे संग
हर पल... हर हाल में
ये संग ही हमारा 
हौसला है दिलबर
देता है खुशियां
और जीने की हिम्मत 
ये संग तेरा 
ये संग मेरा
बढ़ाता है जीवन
रोज़ 
थोड़ा..थोड़ा



9 comments:

  1. जब साथ हो तो जीवन आसान और सफल लगता है..
    सुंदर रचना...
    http://mauryareena.blogspot.in/
    :-)

    ReplyDelete
  2. ये संग तेरा
    ये संग मेरा
    सच है बहना
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. भावपूर्ण सुन्दर ........

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना शनिवार 01/02/2014 को लिंक की जाएगी............... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    कृपया पधारें ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. प्यारा सा साथ
    प्यारी सी कविता :)

    ReplyDelete
  6. सुन्दर भावाभिव्यक्ति...
    http://himkarshyam.blogspot.in

    ReplyDelete
  7. सुंदर ... रचना
    बसंत पंचमी कि बधाई.../मेरे भी ब्लॉग पर आये

    ReplyDelete

आपके कमेंट्स बेहद अनमोल हैं मेरे लिए...मेरा हौसला बढ़ाते हैं...मुझे प्रेरणा देते हैं..मुझे जोड़े रखते आप लोगों से...तो कमेंट ज़रूर कीजिए।