Thursday, November 21, 2013

Thanks all !


जब लिखना शुरू किया 
तब सोचा नहीं था कि कोई मुझे भी पढ़ेगा,
अपनी लेखनी पर तब इतना भरोसा नहीं था..
लिखते-लिखते, लोग जुड़ते गए 
सही ग़लत बताते गए
मेरे ख़यालों को पढ़ते गये..सराहते गये
और मुझे इस पायेदान तक ले आए
आप सभी का शुक्रिया... 

4 comments:

  1. Badhai ... Apko bahut bahut badhai ... Lekhni ka kamaal yun hi bana rahe ...

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत बधाई।
    मंज़िलें अभी और भी हैं :)

    सादर

    ReplyDelete
  3. आप लोगों का आशीर्वाद बना रहे..

    ReplyDelete

आपके कमेंट्स बेहद अनमोल हैं मेरे लिए...मेरा हौसला बढ़ाते हैं...मुझे प्रेरणा देते हैं..मुझे जोड़े रखते आप लोगों से...तो कमेंट ज़रूर कीजिए।