Saturday, November 9, 2013

वो भरकता मफ़लर..

सर्दियों ने दस्तक दी
और मैं फिर से अपनी ऊन और सलाई
पुराने संदूक से निकाल लाई..
इस बार भी हवाएं चेता रही हैं 
कि कुछ बना लूं गर्म सा
जो उनको थोड़ी राहत देगा..
सर्द हवाओं में
मैं फिर सोच में पड़ गई कि कहां से शुरू करूं
कुछ फंदे सलाई में डाले और कुछ उतार दिये
थोड़े फंदे उठाये और थोड़े गिरा दिये
सोचा बूटियां बनाउंगी..या फिर
बगैर किसी डिज़ाइन का..मेरी तरह सादा सा
पर जैसा भी हो मेरे प्यार से महका होगा
उसका मीठा सा सेक हर पल उसे मुझसे जोड़े रखेगा
पर देखो न..
मैं फिर से इस ऊन में उलझ के रह गई
हर साल की तरह
बस सोचती ही रह गई
क्यों न दे पाई मैं अपने सपने को वो रूप
सृजन कर न सकी उस फिक्र का.. 
अपने मन के भावों का 
हर साल की तरह.. इस साल भी न बुन पाई मैं
मेरे सपनों का वो भरकता मफ़लर..


21 comments:

  1. " हर साल की तरह.. इस साल भी न बुन पाई मैं
    मेरे सपनों का वो भरकता मफ़लर.."


    कोई बात नहीं अभी तो ठंड शुरू ही हुई है। हमें पूरी उम्मीद है कि इस बार आपका मिशन सफल होगा :)

    सादर

    ReplyDelete
  2. सर्दियों की ठंडक में राहत ये मफ़लर
    समेटे हैं अंगीठी की कुरवत ये मफ़लर।
    इन्हें साथ रखना भले पहनो न पहनो
    मेरी सादगी की इबादत ये मफ़लर।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह अक्षय, क्या बात है..

      Delete
  3. बहुत खूब लिखा है पारुल जी |

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया प्रदीप जी

      Delete
  4. सपनों के स्वेटर को पूरा करने के लिए सर्दियों की जरूरत नहीं ... संकल्प की जरूरत ही ...
    अच्छा ख्याल बुना है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा सर, अब संकल्प ले लिए है.. धन्यवाद आपका

      Delete
  5. आपके ब्लॉग को ब्लॉग - चिठ्ठा में शामिल किया गया है, एक बार अवश्य पधारें। सादर …. आभार।।

    नई चिठ्ठी : चिठ्ठाकार वार्ता - 1 : लिखने से पढ़ने में रुचि बढ़ी है, घटनाओं को देखने का दृष्टिकोण वृहद हुआ है - प्रवीण पाण्डेय

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरा ब्लॉग ब्लॉग चिठ्ठा में शामिल करने के लिए आभार

      Delete
  6. आपके ब्लॉग को ब्लॉग - चिठ्ठा में शामिल किया गया है, एक बार अवश्य पधारें। सादर …. आभार।।

    नई चिठ्ठी : चिठ्ठाकार वार्ता - 1 : लिखने से पढ़ने में रुचि बढ़ी है, घटनाओं को देखने का दृष्टिकोण वृहद हुआ है - प्रवीण पाण्डेय

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete
  7. आपके ब्लॉग को ब्लॉग - चिठ्ठा में शामिल किया गया है, एक बार अवश्य पधारें। सादर …. आभार।।

    नई चिठ्ठी : चिठ्ठाकार वार्ता - 1 : लिखने से पढ़ने में रुचि बढ़ी है, घटनाओं को देखने का दृष्टिकोण वृहद हुआ है - प्रवीण पाण्डेय

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete
  8. कल 13/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया यशवंत जी

      Delete
  9. शब्द जैसे ढ़ल गये हों खुद बखुद, इस तरह कविता रची है आपने......पारुल जी

    ReplyDelete
  10. खूबसूरत शब्दों से सजी रचना

    ReplyDelete
  11. वास्तविकता में बहुत सुन्दर रचना , बहुत बढ़िया पारुल जी , धन्यवाद
    नया प्रकाशन --: जानिये क्या है "बमिताल"?

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आशीष जी

      Delete
  12. सार्थक रचना के लिए बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वीकार है आपकी बधाई अनु जी..सादर धन्यवाद :)

      Delete

आपके कमेंट्स बेहद अनमोल हैं मेरे लिए...मेरा हौसला बढ़ाते हैं...मुझे प्रेरणा देते हैं..मुझे जोड़े रखते आप लोगों से...तो कमेंट ज़रूर कीजिए।