Monday, September 9, 2013

अम्मा.. !


कई बार अहसास होता है कि 
मेरे पास कहीं..तुम हो
दोपहर की चिलचिलाती धूप में
चेहरे से जब ठंड़ी हवा छू जाती है
तो लगता है...तुम साथ हो कहीं
यूं ही कई बार तुम्हें अपने आस-पास महसूस किया मैंने..
पर क्या ये वाकई तुम हो.. या फिर तुम्हारे साथ न होने का अहसास है..
जो कहीं न कहीं मुझे बता जाता है कि 
तुम होतीं..तो ये होता..तुम होतीं तो कुछ और भी अच्छा हो सकता था
हां वाकई...
तुम जो थीं वो कोई और नहीं हो सकता था
तुमने जो संभाला कोई और संभाल नहीं सकता था
तुम मेरे घर की नींव थीं... 
अब तुम नहीं तो वो घर घर नहीं लगता
दीवारें हैं खड़ी बस..खण्डहर नहीं लगता
तुम नहीं तो 'अम्मा' कुछ अच्छा नहीं लगता..


                                                                On the 2nd death anniversary of 
                                                                dadi 'Amma'

17 comments:

  1. बहुत संवेदन युक्त भावभिव्यक्ति ,भावांजली माँ कों समर्पित |

    ReplyDelete
  2. माँ जीवन का सुर है……………… बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. Time flies...2 saal guzar gaye amma ko gaye

    ReplyDelete
  4. नमस्कार आपकी यह रचना आज मंगलवार (09-09-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरुण जी धन्यवाद

      Delete
  5. बहुत खुबसूरत संवेदना से भरी हुई रचना ....

    ReplyDelete
  6. हार्दिक श्रद्धांजलि


    सादर

    ReplyDelete
  7. श्रद्धांजलि !!

    ReplyDelete
  8. इस कविता पर तो
    "..........."

    ReplyDelete
  9. आज तलक वह मद्धम स्वर
    कुछ याद दिलाये, कानों में !
    मीठी मीठी लोरी की धुन ,
    आज भी आये, कानों में !
    आज मुझे जब नींद न आये, कौन सुनाये आ के गीत ?
    काश कहीं से, मना के लायें ,मेरी माँ को , मेरे गीत !

    ReplyDelete
  10. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 14/09/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दरता के साथ लिखा है ,पारुलजी ने। माँ जी को नमन

    ReplyDelete
  12. माँ का दर्ज़ा सबसे ऊपर

    ReplyDelete
  13. संवेदना से भरी हार्दिक श्रद्धांजलि !

    ReplyDelete
  14. amma se aapka lagav dekhte banta hai aaj ke dour me jhan uva adhunikta me dube hain. aap ne aama ke bare me likha hai. shabash

    ReplyDelete
  15. हार्दिक श्रद्धांजलि

    ReplyDelete

आपके कमेंट्स बेहद अनमोल हैं मेरे लिए...मेरा हौसला बढ़ाते हैं...मुझे प्रेरणा देते हैं..मुझे जोड़े रखते आप लोगों से...तो कमेंट ज़रूर कीजिए।