Wednesday, July 3, 2013

मेरा घर..


मैंने बहुत से मकान बदले हैं..
कुछ छोटे तो कुछ बड़े ..कीमती पत्थरों से जड़े 
चमचमाते फर्श और बड़े से बागीचे वाले भी
कुछ ऐसे भी थे जिनमें हवा आने की जगह न थी
और कुछ जिनमें सामान सजाने की जगह कम थी
कई ऐसे थे जो शुरू होकर ख़त्म ही हो जाते
और कई ऐसे भी कि रसोई तक जाने में पैर अलसाते 
कहीं बालकनी में चाय पीने का लुत्फ़ लिया
तो कहीं नंगे पांव ज़मीन पर चलने को तरस गये

महीने की पहली तारीख ने हर बार ये याद दिलाया
कि ये मेरा घर नहीं.. इसमें रहने का लगता है किराया
जानती थी कि एक घर का सपना जितना मेरा है उतना तुम्हारा भी था..
फिर भी नाराज़ होकर कई बार तुम्हारा दिल दुखाया..
तुमने मेरी कड़वी बातों को सुना नहीं 
और जो नहीं कहा उसे सहेज लिया..

सुकून तो हर जगह मेरे पास था
तुम्हारा और प्यारे से बेटे का जो साथ था
पर जो कमी थी वो तुमने आज पूरी कर दी
जिसे करने के लिए एक उम्र बीत जाती है
मेहनत इतनी कि चेहरे पे नज़र आती है
शायद ही कोई किसी को तोहफ़े में देता होगा
जो तुमने आज मुझको दे दिया
मेरा घर.. मेरा आंगन ..मेरा संसार
जिसका किराया अब मुझे नहीं देना होगा..

                                                         Thanks to you love !

13 comments:

  1. Kya baat kya baat kya baat.....wah wah wah

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  3. पारुल जी
    नए घर की बहुत बहुत मुबारकबाद आपको !
    खूबसूरत भावों के साथ सुखद सूचना देने के लिए आभार!
    मेरी नयी पोस्ट आपके इंतज़ार में है !

    एक चटका यहाँ भी लगाइये :
    http://raaz-o-niyaaz.blogspot.com/2013/07/blog-post.html

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुरेन्द्र आपको धन्यवाद..

      Delete
  4. बधाई हो नए और अपने घर की ...
    सुन्दर भावों का पिटारा खोल दिया ज्यों आपने ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर ..कितना कुछ कह दिया ... शब्दों में...पारुल जी

    ReplyDelete
  6. अपने घर की खुशबु तो अलग ही होती है,बहुत बहुत बधाई
    यहाँ भी पधारे

    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/01/yaadain-yad-aati-h.html

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. बहुत बहुत बधाई....
    महकता रहे आशियाना......

    अनु

    ReplyDelete
  9. सुन्दर रचना। ये घर अगणित खुशियाँ लाये। शुभकामनाएं।

    ReplyDelete

  10. नए घर की बहुत बहुत मुबारकबाद आपको ......पारुल जी

    ReplyDelete

आपके कमेंट्स बेहद अनमोल हैं मेरे लिए...मेरा हौसला बढ़ाते हैं...मुझे प्रेरणा देते हैं..मुझे जोड़े रखते आप लोगों से...तो कमेंट ज़रूर कीजिए।