Wednesday, February 13, 2013

ये चाय कुछ ख़ास है..


चाय... रोज़ाना की ही तो बात है..पर आज की चाय कुछ ख़ास है..
थोड़ी मीठी है...
बीते सालों की मीठी यादों की तरह
महक ऐसी कि...
अब तक सहेजे प्यार की खुशबू हो जैसे
संजीदा भी है..
साथ बांटे छोटे-बड़े अनुभवों की तरह
ताज़ा इतनी..
कि जैसे कल ही की तो बात है
जब तुम आए थे मेरे जीवन को नया करने
थामा था मेरा हाथ.. हमेशा साथ चलने
चाहती हूं कि सफर ऐसे ही कटता जाये
और हम बूढ़े हो जायें...
थोड़े और अनुभव, थोड़ा और प्यार ..थोड़ी और यादें मिलें...
और ये चाय हर साल और भी मीठी होती जाए... !

                                                               Happy Anniversary love !

7 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. .....थोड़ी मीठी है...
    बीते सालों की मीठी यादों की तरह
    महक ऐसी कि...
    अब तक सहेजे प्यार की खुशबू हो जैसे...

    प्रेम के पल सदैव अद्भुत और अविस्मर्णीय होते हैं..उन्हें याद करना भी अविस्मर्णीय सुकून देता है...बहुत ही प्यारी कविता है आपकी..शुभकामनाएँ..
    कभी हमारे ब्लाग पर भी दृष्टिपात कर अपने विचारों से अवगत कराएँ...
    सादर/सप्रेम
    सारिका मुकेश
    http://sarikamukesh.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद..

      Delete
  3. Bahut pyara, khubsoorat sa ahsas liye sundar si kavita.
    neeraj 'neer'
    You are welcome on my blog:
    KAVYA SUDHA (काव्य सुधा)

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साह बढ़ाने के लिए शुक्रिया..

      Delete
  4. yakeenan, ye chaii khaas hai... :)

    ReplyDelete
  5. अपने भावो को बहुत सुंदरता से तराश कर अमूल्य रचना का रूप दिया है.

    ReplyDelete

आपके कमेंट्स बेहद अनमोल हैं मेरे लिए...मेरा हौसला बढ़ाते हैं...मुझे प्रेरणा देते हैं..मुझे जोड़े रखते आप लोगों से...तो कमेंट ज़रूर कीजिए।