Wednesday, November 23, 2011

प्यार की कुछ क्यारियां..




प्यार की कुछ क्यारियां...मेरे पास ढ़ेर सारी हैं,
हर क्यारी प्यारी है, हर क्यारी न्यारी है।

कई सारे फूल खिलते हैं,  
अलग अलग रंगों में मिलते हैं।
कुछ चटख, कुछ कोमल, कुछ बड़े रंगीले से, 
कुछ लाल, कुछ नीले, कुछ पीले पीले से। 

उनकी ख़ुशबू कि जीवन महका जाए,
नरम इतने के रूह सुकून पाए।
पास हों तो आंखों में चमक होती है,
दूर हो जाएं तो आंसुओं की नमी होती है।

हर मौसम में हरे रहते हैं,
इन क्यारियों में हमेशा बसे रहते हैं।
कुछ फूल हैं शायद या ख़्वाब कहीं के, 
खिलते हैं यहां और आंखों में बसा करते हैं।।



2 comments:

आपके कमेंट्स बेहद अनमोल हैं मेरे लिए...मेरा हौसला बढ़ाते हैं...मुझे प्रेरणा देते हैं..मुझे जोड़े रखते आप लोगों से...तो कमेंट ज़रूर कीजिए।