Tuesday, March 29, 2011

एक शुरुआत..


चाय की चुस्कियों के साथ फिर एक नए दिन की शुरूआत
लेकिन आज कुछ खास है..

आज दिन के साथ कुछ नया करने की शुरूआत है..
कुछ करने, गढ़ने की लालसा,
मेरी उंगलियों ने कीबोर्ड पर कुछ उकेरना शुरू कर दिया है..
पर ये क्या है...
एक खूबसूरत ख्याल जो सुनने में भी स्वाद की ही तरह मीठा है...
आज से मैने रियाज़ शुरू कर दिया है..

1 comment:

  1. nice selection of words dear...keep writing...waitin fr ur nxt topic :)

    ReplyDelete

आपके कमेंट्स बेहद अनमोल हैं मेरे लिए...मेरा हौसला बढ़ाते हैं...मुझे प्रेरणा देते हैं..मुझे जोड़े रखते आप लोगों से...तो कमेंट ज़रूर कीजिए।